प्राकृतिक रूप से स्तन कैसे बड़े करें – स्तन बड़े करने का सर्वोत्तम प्राकृतिक तरीका

यदि आप भी उन लाखों महिलाओं में से एक हैं जो अपने स्तन का साइज़ प्राकृतिक रूप से बढ़ाना चाहती हैं तो आज हम आपको जो बताने जा रहे हैं वह आपको बहुत पसंद आएगा।

सबसे पहली चीज…अपने बारे में अच्छा महसूस करके खुश रहने के लिए स्तनों के बढ्ने का इंतज़ार न करें। आप अब भी अपने बारे में अच्छा महसूस कर सकती हैं!

स्तन छोटे होना कोई खराब चीज नहीं है। लेकिन यदि आपको लगता है कि आपके स्तन थोड़े बड़े बड़े होने चाहिए तो दूसरों की बातों पर ध्यान न दें और वही करें जो आपको लगता है आपके लिए सबसे अच्छा है।

आपके स्तन छोटे क्यों हैं?

अपने मन के साइज़ के स्तन न होने के कुछ मुख्य कारण होते हैं। इनमें से एक तो यह हो सकता है कि आपके परिवार में छोटे स्तनों का आनुवांशिक इतिहास रहा हो। एक और संभावित कारण यह हो सकता है कि आपके स्तन किशोरावस्था में हॉर्मोनल गड़बड़ियों के कारण अविकसित रह गए हों। यदि आपको हॉरमोनल समस्याएँ हों तो बेहतर होगा आप किसी गायनेकोलॉजिकल एंडोक्राइनोलॉजिस्ट की सलाह लें जो महिलाओं की हॉरमोनल समस्याओं की विशेषज्ञ हों।

स्तनों का साइज़ प्राकृतिक रूप से कैसे बढ़ाएँ

डाइट

स्तनों का साइज़ प्राकृतिक रूप से बड़ा करने का एक सबसे अच्छा तरीका है अपने खान-पान पर ध्यान देना। ध्यान रखें कि इन खानों को खाने मात्र से आपको कोई बहुत बड़ी बढ़त नहीं मिल जाने वाली है, लेकिन यदि आप इन खानों को अपनी रोज़मर्रा की प्राकृतिक तरीके से स्तन वृद्धि की दिनचर्या में शामिल कर लेंगी तो आपको अच्छे नतीजे जरूर मिलेंगे (स्वस्थ और बड़े स्तन)।

इन भोजनों को खाने का एक और फायदा यह है कि आपका पूरा शरीर स्वस्थ रहेगा। खाने की इन चीजों में फाइटो-एस्ट्रोजन (शाकाहारी एस्ट्रोजन) होता है जो आपके एस्ट्रोजन स्तर को बढ़ा कर प्राकृतिक रूप से स्तन वृद्धि उत्प्रेरित कर देता है। आपके शरीर के एस्ट्रोजन स्तर को बढ़ाने के लिए सबसे बढ़िया खाने की चीजों में शामिल हैं:

सोया-मिल्क

बस 1 कप सोयामिल्क में करीब 30 मिलीग्राम फाइटो-एस्ट्रोजन होते हैं जिन्हें फ्लेवोन भी कहते हैं। सोयामिल्क को सोयाबीन्स से बनाया जाता है और यह किराने की दुकानों में मिलता है।

तिल के बीज। लीगनन एक प्रकार का फाइटो-एट्रोजन है जो तिल के बीजों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। तिल के बीज बहुत लोकप्रिय हैं और कई तरह की खाने की चीजों में उपयोग किए जाते हैं। बस एक आउंस तिल के बीजों में करीब ग्यारह मिलीग्राम एस्ट्रोजन होता है।

अलसी के बीज। अलसी में प्रचुर मात्रा में लिगनन नामक फाइटो-एस्ट्रोजन पाए जाते हैं। एक आउंस तिल के बीजों में करीब 85 मिग्रा फाइटो-एस्ट्रोजन पाया जाता है।

सोयाबीन। सोयाबीन एक और ऐसी चीज है जिसे आपको अपने दैनिक भोजन में शामिल करना चाहिए। सोयाबीन में प्रचुर मात्रा में आइसोफ्लेवोन होते हैं जो एक और प्रकार के फाइटो-एस्ट्रोजन हैं।

  •  केल, ब्रोकली, ब्रूसेल्स स्प्राउट्स, पत्तागोभी और फूलगोभी भी लिगनन नामक फाइटो-एस्ट्रोजन के बढ़िया स्त्रोत हैं।
  •  लिगनन में समृद्ध फलों में पीच, चेरी, संतरे, किशमिश, स्ट्रॉबेरी और तरबूज शामिल हैं।
  •  प्रोटीन में समृद्ध चीजें दैनिक भोजन का हिस्सा होना आवश्यक है। इनमें से कुछ चीजें हैं, अंडे, प्राकृतिक चिकन ब्रेस्ट, पतला बीफ, झींगे, बीन्स और दालें।
  •  ओमेगा 3 फैटी एसिड में समृद्ध मछलियाँ खाएँ, या ओमेगा 3 फिश ऑइल वाले सप्लिमेंट लें। सामन मछली बहुत बढ़िया होती है क्योंकि इसमें काफी ओमेगा 3 होते हैं।
  •  साबुत अनाजों पर आधारित भोजन ज़्यादा लें और पास्ता, ब्रेड आदि कम खाएँ।
  •  शक्कर कम खाएँ और सिग्रेट शराब पीना कम कर दें या छोड़ दें।

विटामिन

स्तनों को प्राकृतिक रूप से बड़ा करने के लिए विटामिन बेहद आवश्यक होते हैं। विटामिनों से मिलने वाला पोषण न सिर्फ स्तनों के विकास के लिए, बल्कि उनके स्वास्थ्य के लिए भी जरूरी होता है।

स्वस्थ त्वचा के लिए विटामिनों की जरूरत होती ही है। यदि आपके शरीर को पर्याप्त विटामिन नहीं मिलेंगे तो आपके स्तन स्वस्थ रह ही नहीं सकते। प्राकृतिक रूप से स्तन बड़े करने के लिए कुछ सर्वोत्तम विटामिनों पर एक नज़र डालें।

विटामिन

अपनी त्वचा को पूरा पोषण देने के लिए आपको विटामिन ए की जरूरत होती है। पर्याप्त मात्रा में विटामिन ए न मिलने से त्वचा सूखी और पपड़ी वाली हो जाती है। आप लोकल दवाई की दुकान से विटामिन ए सप्लिमेंट खरीद सकती हैं।

विटामिन ई। त्वचा और पूरे स्वास्थ्य के लिए रोज 50 मिग्रा विटामिन ई लेने की सलाह दी जाती है।

विटामिन सी। त्वचा की सुरक्षा के लिए कोलजन एक आवश्यक प्रोटीन है। आपकी त्वचा का रंग-रूप त्वचा में पाए जाने वाले कोलाजन की गुणवत्ता पर निर्भर होता है। विटामिन सी एक ज्ञात कोलाजन उत्पादक है। विटामिन सी की गोलियाँ लेकर आप अपने शरीर को ज़्यादा कोलाजन उत्पादित करने के लिए उत्प्रेरित कर सकते हैं।

पहले – बाद में

एक्सर्साइज़

प्राकृतिक तरीके से स्तनों का साइज़ बढ़ाने का एक और तरीका है कुछ खास एक्सर्साइज़ करना। आपके स्तनों के ऊतक वसा से बने होते हैं इसलिए इनका आकार स्तनों में जमा वसा की मात्रा पर निर्भर करता है।

आपके स्तनों में कितनी वसा भरी होगी यह निर्भर करता है आपके वजन, आनुवांशिक कारणों, उम्र और स्वास्थ्य पर। आपके स्तनों के ठीक नीचे की मसल्स को पेक्टोरल मसल कहते हैं, और आपके स्तनों का साइज़ इन्हीं मसल्स पर निर्भर करता है।

एक्सर्साइज़ से आपके स्टैन बड़े, कड़े, अच्छे आकार के और उचकने वाले बन जाते हैं। स्तन बड़े करने की सर्वोत्तम एक्सर्साइज़ हैं पुश-अप्स, इन्क्लाइन फ्लाय, चेस्ट प्रेस, पेक्टोरल फ्लाय और अन्य।

चेस्ट प्रेस

स्तनों के नीचे की पेक्टोरल मसल्स को बनाने की सबसे बेहतरीन एक्सर्साइज़ में से एक हैं चेस्ट प्रेसेस। चेस्ट प्रेस करने के लिए पीठ के बल लेट जाएँ और घुटने मोड़कर पैरों को सीधे फर्श पर रखें। अब अपने दोनों हाथों में डंबल ले लें। डंबल ऐसे होने चाहिए जो आपसे आसानी से संभल जाएँ। 2 से 5 किलो तक के डंबल ठीक रहते हैं। अपनी कोहनियों को नब्बे अंश मोड़ लें और अपनी सीने की मसल्स से वजन को ऊपर की ओर उठाकर आपस में छुलाएँ। इस एक्सर्साइज़ के 15 से 20 बार के 3 सेट हर हफ्ते 3 बार करें।

साइड स्वर्व्स

इस एक्सर्साइज़ से आप सीने की मसल्स को टोन करके उन्हें कड़ा बना सकेंगी। इसे करने के लिए बैठ जाएँ और पीठ सीधी कर लें। अब अपने हाथों को नितंबों पर रखकर जितना हो सके बाईं ओर मुड़ें।

इस पोजीशन को थोड़ी देर मेनटेन करें और फिर दूसरी ओर करें (दाईं ओर)। यह एक्सर्साइज़ करने से आपके स्तनों के साइड खास तौर पर टोन हो जाएंगे और ज़्यादा बड़े हो जाएंगे।

एक इकलौता उपाय आपकी सभी स्तन सम्बन्धी समस्याओं के लिए!

BUST-FULL

एकदम प्राकृतिक उपचार एक महिला को अधिक आकर्षक बनाने के लिए

एकदम प्लास्टिक सर्जरी जैसे परिणाम वो भी बिना किसी प्लास्टिक सर्जरी के:

  • आपके स्तनों को ऊपर उठाती है और सख्त बनाती है
  • विषमता को दूर करती है
  • आकार में वृद्धि करती है और मजबूत बनाती है
  • वक्षस्थल के भाग को पोषण प्रदान करती है
सभी उम्र की महिलाओं के लिए कारगर.

हर्ब्स

ऐसी कई हर्ब्स (औषधियाँ) हैं जो स्तन बड़े करने के लिए जानी जाती हैं। हर्ब्स से स्तनों का साइज़ इसलिए बढ़ जाता है क्योंकि इनसे ठीक ऐसे हॉर्मोनल बदलाव शुरू हो जाते हैं जो गर्भावस्था या दूध पिलाते समय होते हैं।

सौंफ

सौंफ से स्तनों का साइज़ बढ़ सकता है क्योंकि इसमें उसी प्रकार का एस्ट्रोजन होता है जो शरीर गर्भावस्था और किशोरावस्था में बनाता है। कई सालों से सौंफ को प्राकृतिक रूप से स्तन बड़े करने और कामेच्छा बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

सौंफ के एस्ट्रोजन उत्पादन उत्प्रेरित करने वाले पदार्थ हैं डाईईथोल, फोटोएनीथोल, और एनीथोल। आप सौंफ को सीधे खा सकती हैं या इससे चाय भी बना सकती हैं।

दिन में कुछ बार सौंफ खाने से आपका एस्ट्रोजन स्तर बढ़ जाएगा। सौंफ के सप्लिमेंट भी लिए जा सकते हैं।

मेथी। स्तन बड़े करने के लिए संभवतः सबसे लोकप्रिय औषधि है मेथी। मेथी प्राकृतिक रूप से स्तन बड़े करने के लिए लोकप्रिय है क्योंकि इसमें http://buytramadolbest.com डायोसजेनिन जैसे पदार्थ होते हैं जो शरीर में एस्ट्रोजन हॉरमोन बढ़ा देते हैं।

मेथी की मदद से उत्पाधित होने वाले हॉरमोन से आपके स्तन बड़े हो जाते हैं क्योंकि ये बदलाव ठीक उसी तरह के होते हैं जो दूध पिलाने वाली माँ के शरीर में होते हैं। आप स्तन विकसित करने के लिए रोज 2 से 3 मेथी सप्लिमेंट ले सकती हैं।

ब्लेस्ड थिसल। ब्लेस्ड थिसल प्राकृतिक रूप से स्तन बड़े करने के लिए एक बहुत असरदार हर्ब है। यह हर्ब मुख्यतः एशिया और भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में होती है और इसके कई चिकित्सकीय उपयोग हैं।

ब्लेस्ड थिसल दुग्धपान करा रही माओं में दूध का प्रवाह बढ़ा देती है और ठीक इसी तरह आपके स्तनों का साइज़ बढ़ाने में भी मददगार होती है। जो महिलाएँ गर्भवती नहीं हैं या जो दूध नहीं पिला रही हों, उन्हें स्तनों के ऊतकों में बढ़त महसूस होगी क्योंकि आपके शरीर को लगेगा कि अभी उसे दूध का प्रवाह बढ़ाना है।

यदि आप कोई दवाइयाँ ले रही हों तो कोई भी हर्ब लेने से पहले अपनी डॉक्टर से सलाह ले लें। और यदि आपको किसी तरह की कोई बीमारी हो तो सावधानी बरतें और अपनी डॉक्टर से सलाह लें।

हर्ब्स की पूरी लिस्ट और वे कैसे काम करती हैं, इसकी जानकारी यहाँ देखें

प्राकृतिक रूप से स्तन बढ़ाने का सर्वोत्तम तरीका

हमें अपनी वेबसाइट पर यही प्रश्न सबसे ज़्यादा देखने को मिलता है कि प्राकृतिक रूप से बिना ऑपरेशन के स्तन कैसे बड़े किए जाएँ।

When people ask us what’s the best natural breast enhancement routine that shows them step by step how to get bigger breasts within a short time we almost always recommend:

Bust-full

जब लोग हमसे सबसे अच्छी प्राकृतिक स्तन वृद्धि दिनचर्या की बात करते हैं जिसमें उन्हें कम समय में ही चरणबद्ध तरीके से स्तन बड़े करने की विधि बताई जाए, तो हम हमेशा इसकी सलाह देते हैं: Bust-full 

मुझे याद हैं जब मैं बड़ी हो रही थी तो मेरे छोटे स्तनों के कारण मुझे कितना खराब लगता था। मैं बचपन से ही अपने स्तनों को लेकर हीन-भावना रखती थी क्योंकि मेरी सभी सहेलियों के कम से कम सी कप थे, वहीं मैं 32 ए थी।

जब मैं 27 की थी तब भी मेरे स्तन इतने ही बड़े थे – सॉलिड ए कप। मेरी छोटी बहन भी 38 डीडी थी और तब वो सिर्फ 13 साल की थी। मैं उससे बहुत जलती थी और इससे मेरे आत्म-विश्वास पर बहुत असर पड़ने लगा था।

मैंने दूध बड़े करने के लिए कुछ तरीके आजमाँ कर देखे लेकिन जब कोई रिज़ल्ट नहीं मिले तो छोड़ दिया। मुझे पूरा विश्वास होने लगा था कि अब मैं सपाट सीना लेकर ही जियूँगी और इसकी आदत डाल लेनी चाहिए।

कई सालों तक समस्या से जूझने के बाद मैं इतनी बेताब हो चुकी थी कि कुछ भी ट्राय करने को तैयार थी। इसलिए जब मैंने पहली बार जेनी के आल नैचुरल ब्रेस्ट इन्लार्जमेंट प्रोग्राम के बारे में जाना तो मुझे कोई हिचक नहीं हुई। जब मैंने देख कि मेरे स्तन थोड़े बड़े होने लगे हैं तो मैं समझ गई कि मैं सही जा रही हूँ। ये असर कर गया! भगवान का शुक्र है! जब मैंने देखा कि मेरी रूटीन काम कर रही है तो मैं इसी पर चलती रही।

मैं अपने नतीजों से इतनी खुश हुई कि मैंने जेनी से बात की और मुझे उसके साथ थोड़े दिन का करने का भी मौका मिला। जेनी हमेशा अपना वादा निभाती है और अपने प्रोडक्ट से असली नतीजे देती है।

स्तनों को प्राकृतिक रूप से बड़ा करने के लिए मार्केट में इतनी गलत जानकारियाँ घूम रही हैं कि कोई भी गुमराह हो जाएगा।

इसलिए जब हमारे रेगुलर सब्सक्राइबर्स ने हमसे लगातार पूछा तो हमने प्राकृतिक रूप से स्तन बड़े करने के 10 सबसे लोकप्रिय तरीकों की खोज-बीन करके यह जानने की कोशिश की कि कौन सा तरीका असर करता है। हमें यह देखकर कोई आश्चर्य नहीं हुआ कि इनमें से अधिकतर बेकार ही थे।

हमें यह देखकर कोई आश्चर्य नहीं हुआ कि इनमें से अधिकतर बेकतार ही थे।

आखिर में, केवल 2 प्रोडक्ट काम के निकले। ये 2 पूरी तरह से प्राकृतिक प्रोग्राम प्राकृतिक रूप से कम समय में स्तन बड़े करने के बारे में पूरी जानकारी और संसाधन उपलब्ध कराते हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.